भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सहयाद्रि / यूनीस डिसूजा / ममता जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह कवि की अन्तिम कविता है

उड़ा देना
मेरी राख को
पश्चिमी घाट में
अब वही पहाड़ियाँ घर सी लगती हैं

तेंदुऐ शायद कविता का स्वाद चख लें
कौव्वे और चील अपनी आवाज़ के उतार-चढ़ाव को
सँवार लें

मौसम चाहे प्रतिकूल भी हो
धुन्ध और झरने
घास और फू़ल
कायम रहें

हर समय ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : ममता जोशी