भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साँई तेरे कारन नैना भये बिरागी / दूलनदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँई तेरे कारन नैना भये बिरागी।
तेरा सत दरसन चहौं, और न माँगी॥

निसु बासर तेरे नाम की, अंतर धुनि जागी।
फेरत हौं माला मनौं, ऍंसुवनि झरि लागी॥

पलक तजी इस उक्ति तें, मन माया त्यागी।
दृष्टि सदा सत सनमुखी, दरसन अनुरागी॥

मदमाते राते मनौं, दाधै बिरहागी।
मिलु प्रभु 'दूलनदास के, करु परम सुभागी॥