भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साँपों की बस्ती / शीलेन्द्र कुमार सिंह चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँखों पर काले चश्मे हैं
बातों मे मस्ती
बदल रही हर रोज़ मुखौटा
साँपों की बस्ती

मीठा-मीठा ज़हर पिलाकर
कच्चे सपनों को
बाँट रही दुख-दर्द ग़रीबी
अपने अपनों को
मूँगफली बादाम हो गई
सुरा हुई सस्ती ।

धन-कुबेर को अपने घर में
बैठी बन्द किए
मूक दिशाएँ देख रही हैं
अपने होठ सिए
कार विदेशी, ऊँची कोठी
जता रही हस्ती ।
 
कुर्सी-कुर्सी पर बैठाकर
शतरंजी प्यादे
उल्टी सीधी चाल दिखाकर
बाँट रही वादे
लाखों के वारे-न्यारे हैं
दिखावटी सख़्ती ।
 
बदल रही हर रोज़ मुखौटा
साँपों की बस्ती