भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सांस-सांस नै सुळती लाधै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सांस-सांस नै सुळती लाधै
रात-रात आ रुळती लाधै

अष्टपौर फोरूं पसवाड़ा
नाड़-नाड़ आ कुळती लाधै

चढती उमर खिंडग्या खोखा
गळी-गळी आ रुळती लाधै

तरणाती सांस देख मांचो
ठौड़-ठौड़ आ लुळती लाधै

ल्यो सीर री खीर पुरसीजै
ठांव-ठांव आ ढुळती लाधै