भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सांस लेवती रूत / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तूं कनै हुवै जणा
मूंगाछम हुवै बिरछ
डाळां माथै बैठा पंछीड़ा ई
गावै- बतळावै

बागां में
फूल हुवै
फूलां में सोरम हुवै

तूं सागै हुवै जणा
फागण-चैत री गुलाबी ठण्ड हुवै
ठण्ड सूं उपजती
हळकी-हळकी आंच हुवै

सुण तो सरी-
जीवती-जागती
महकती-मुळकती
सांस लेवती रुत है तूं !