भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सांस सांस नै तळती चालै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सांस सांस नै तळती चालै
जद आ बैरण बळती चालै

डौल सारू मिलै दाम अठै
चढती चालै ढळती चालै

सजी धजी आ सांवळी नार
रात है रात छळती चालै

हालण लागै हेली, जद आ
रीस रीस में रुळती चालै

प्रीत-जोत बुझै ना मिटै कदै
नित नुंवै रूप पळती चालै