भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सांस सांस नै तळती चालै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सांस सांस नै तळती चालै
जद आ बैरण बळती चालै

डौल सारू मिलै दाम अठै
चढती चालै ढळती चालै

सजी धजी आ सांवळी नार
रात है रात छळती चालै

हालण लागै हेली, जद आ
रीस रीस में रुळती चालै

प्रीत-जोत बुझै ना मिटै कदै
नित नुंवै रूप पळती चालै