भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सांस / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अठीनै
चितराम बण बैठिया है
मिनख
   लुगाई
   टाबर
पण लेवै सांस !

बठीनै
परदै माथै
बोलै-बतळावै
    नाचै-गावै
उछ्ळै-कूदै चितराम
पण लेवै कोनी सांस !