भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साइके / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1.

मैं घर लौट आई हूँ
मै छद्मवेशी नहीं हूँ ।
रोटी नहीं चाहिए मुझे
मैं नौकरानी नहीं हूँ ।
मैं हूँ तुम्‍हारी वासना का आवेग
आराम हूँ तुम्‍हारा रविवार का ।
दिन हूँ तुम्‍हारा सातवाँ
और हूँ तुम्‍हारा सातवाँ आकाश ।

एक पैसा क्‍या मिला भीख में
चक्‍की के बाँध दिए पाट मेरे गले में ।
ओ प्रिय, पहचान नहीं पा रहे हो क्‍या
मैं अबाबील हूँ - तुम्‍हारी आत्‍मा ।

2.

कभी जो रहा कोमल शरीर
आज ढका है चीथड़ों से,
टुकड़े-टुकड़े हो गया है सब कुछ
साबुत बचे हैं सिर्फ़ दो पंख ।

बचाओ, तरस खाओ मुझ पर --
पहनाओ मुझे अपनी गरिमा
और ले जाओ मेरे फटे चीथड़े
अपने परिधानो के पवित्र भण्डार में ।