भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साइबेरिया / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो सच बोलते है उन्हे साइबेरिया भेज
देना चाहिए
ज्यादा सच बोलने वालों के लिए सलीब
सबसे अच्छी जगह है
ठण्ड से काँपते हुए शब्द उष्मा के
लिये परेशान हैं
उष्मा कहाँ मिलेगी पर्वत प्रान्तर बर्फ़ से
ढँके हुए हैं
साइबेरिया के सारस भरतपुर पक्षी-विहार में
प्रवास कर रहे हैं
वे कैमरों में अपने किलोल के साथ
क़ैद हो रहे हैं
वृक्षों पर उन्होंने बनाए है नए घोंसले
उनमें से दिख रहे है उनके लाल-लाल चोंच
वे उड़ने की तैयारी में हैं
बर्फ़ के दिनों में साइबेरिया में पक्षी
नहीं रहते तब कौन रहता है
साइबेरिया में