भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साक्षात्कार / लीना मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शब्द के बेलगाम घोड़े पर सवार
हर सितारे को एक टापू की तरह टापते हुए मै
घूम आई हूँ इस विस्तार में
जहाँ पदार्थ सिर्फ़ ध्वनि मात्र थे
और पकड़ के लटक जाने का कोई साधन नही था
एक चिर-निद्रा में डूबे स्वप्न की तरह स्वीकृत
तर्कहीन, कारणहीन ध्वनि
जो डूबी भी थी तिरती भी थी
अन्तस में थी बाहर भी

इस पूरे
तारामण्डल ग्रहमण्डल सूर्यलोक और अन्तरिक्ष में
जिसे न सिर्फ़ सुना जा सकता है
बल्कि देखा जा सकता है
असंख्य-असंख्य आँखों से
और पकड़ में नहीं आती थी
अनियन्त्रित, अनतिक्रमित और पीत-वर्णी अनहुई आवाज़

क्या वह ध्वनि मै ही थी ?

और वह शब्द का घोड़ा तरल हवा-सा
जो अन्धड़ था या ज्वार
जो बहता भी था उड़ता भी था
चक्र भी था सैलाब भी

और यह आकाश जो खाली न था रीता न था
फक्कड़ न था
था ओजस्वी पावन
तारों का पिता
उड़ते थे तारे आकाश सब मिल-जुल कर
वह दृश्य दृष्टा और दृशेय मै ही थी....!!!

भयानक था...
परीक्षा का समय
आनन्द से पहले की घड़ी
क्या वह मै ही थी
इस उजियारे अँधेरे जगत में फैली
एक कविता ...
क्या वह शब्द मै ही थी ?