भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सागर-प्रेम / निज़ार क़ब्बानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं तुम्हारा समुद्र हूँ
मुझसे मत पूछो
आगामी यात्राओं की समय सारणी के बारे में ।

तुम्हें वही करना है जो है तुम्हारी फितरत
भूल जाओ दुनियावी आदतों को
पालन करों सामुद्रिक नियमावली का ।

मेरे भीतर धँस जाओ एक पाग़ल मछली की तरह
टुकड़े-टुकड़े कर दो
मेरे जलयान के
क्षितिज के
मेरे जीवन के
छिन्न-भिन्न कर बिखेर दो मेरा अस्तित्व ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह