भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सागो छोड टळ जावै लोग / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सागो छोड टळ जावै लोग
पारो बण तिसळ जावै लोग

किण रो परियारो करां अबै
हवा देख बदळ जावै लोग

काची सांसां री आंच मिलै
मोम दांई पिघळ जावै लोग

आज इण गत में देख म्हांनै
आंख बचा निकळ जावै लोग

जुगां तांई ठा कोनी पड़ै
होळै-सी निगळ जावै लोग