भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साजिश के तहत / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आप चलते हुए गिर जाओ
ठोकर खाकर
बुरा तो लगता है
अच्छा लगता है
जब उठ कर चलने लगो।

अच्छा नहीं लगता
साजिश के तहत गिराया जाना।

आप न हों शामिल
किसी समारोह में
अच्छा लगता है
नहीं लगता
शामिल न किया जाना
जानबूझ कर।

अच्छा लगता
हँसना मुस्कुराना
नहीं लगता
हँसना मुसकराना
नहीं लगता
जब कोई हँसे बस देख कर।
और भी बुरा लगता
आप शामिल हों हँसी-खुशी में
आप नाचें गाएं या मौज मनाएं
पता चले बाद में
यह सब था तहत
एक साजिश के।