भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सात छोटी कविताएँ / अनातोली परपरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अनातोली परपरा  » संग्रह: माँ की मीठी आवाज़
»  सात छोटी कविताएँ


1

हे सुन्दरता

आख़िर

इस धरती पर

छोड़ी नहीं तूने अपनी मस्ती

बदमस्ती वह...


2

रात का पतंगा हूँ

अन्धा मैं

तेरी विकट नील आभा से


3

देखो...बर्फ़ वह कपासी

उड़ रही

धरती के संग-साथ


4

पतझड़ में उदास

वह बागीचा

डूबा है आकंठ

बारिश के प्यार में...


5

दुख तो यह है दोस्त !

कि अभिमान होता है पैदा

बुद्धि से पहले...


6

सुनो !

सुन रहे हो तुम

बारिश से डरकर

भाग रहे हैं पेड़...


7

अरे ! यह क्या कह रहे हो

देखो, बुद्धि बड़ख़ूब जानती है

प्यार के बारे में