भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सात सहेल्यां रे झूलरे / राजस्थानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सात सहेल्यां रे झूलरे, पणिहारी जीयेलो मिरगानेणी जीयेलो
पाण्यू चाली रे तालाब, बाला जो
काळी रे कळायण उमडी ए*पणिहारी जीयेलो, मिरगानेणी*जीयेलो,
छोटोडी बूंदां रो बरसे मेह, बालाजो
आज धराऊं धूंधलो ए पणिहारी...
मोटोडो धारां रो बरसे मेह, बाला जो
भर नाडा भर नाडयां ए पणिहारी...
भरियो-भरियो समंद तलाब, बाला जो