भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साथी, गीली हैं लकड़ियाँ / एरलिण्डो बारबेइटोस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साथी !
गीली हैं लकड़ियाँ

ख़त्म हो चुकी हैं
माचिस की तीलियाँ
और ठण्डी हो रही हैं
मकई की रोटियाँ

आओ
डरो नहीं बारिश से
हवा में सिर्फ़
निरुद्देश्य उड़ती चिड़ियाँ हैं ।