भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साथ-साथ / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूलो मत
मित्र
चलते हैं हम साथ-साथ

चढ़ते हैं पहाड़ों पर
चुनते हैं रसभरी
ले जाने दो हमें
चारों हवाओं से

भूलो मत
यह है हमारा
समवेत संसार
अविभाजित
ओह, विभाजित

जो हमें बनाती है
जो हमें बर्बाद करती है
वह खण्डित
अखण्डित धरा
जिस पर हम
चलते हैं साथ-साथ II

मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित