भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

साथ गुज़रे जो तेरे वही शाम है / आलोक श्रीवास्तव-१

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साथ गुज़रे जो तेरे वही शाम है,
ज़िन्दगी चंद लम्हात का नाम है ।

सोच भी दफ़्न की होंठ भी सी लिए,
जब से ख़ामोश हूँ दिल को आराम है ।