भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साफ-सुथरो घर / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढक देवूं रोसनदान री जाळी
बारणै पर स्प्रिंग लगवा देवूं
कै कबूतरां-चिड़कल्यां रै
घर बणावण री रुत है!
रैवूं एकली राजी
घर साफ-सुथरो है
कठैई न तिणकलो
न कचरो है!