भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सामन्त / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुकुट छिन गया, छिन गई ज़मीन
लेकिन वे अपने अच्छे दिनों के बर्बर
दिनों के साथ जीवित हैं
वे धोखे से मारे गए बाघ के साथ
बहादुरी की मुद्रा में अपना चेहरा दिखा रहे हैं
बाबू साहब वे दिन गए जब आप रियाया को
भेड़ समझते थे, उसे अपने काँजीहाउस में हाँक कर
ज़ुर्माना लगाते थे
तुम अपने हरम में रह गए हो अकेले
तुम्हारे किले के प्राचीर पर बैठे हुए है गिद्ध
एक लोकगायक तुम्हारे पतन पर गा रहा है
लोकगीत