भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सामै मंडियां पछै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थर-थर काम्पै हो
रूं-रूं

लुकण खातर
ना तो ही रजाई
ना लुगाई
सीनो ताण्या सामैं ऊभो हो
सीयाळो

कम्पकम्पी में ई किड़किड़ी खायी

लुकण री छोड़
साथळ ठोक
सामैं मंडियो

सीयां मरतो धूजण लाग्यो
सीयाळो