भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सायों के साए में/ शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुंतज़िर
मुशव्वशो मुंतशिर
कितने मकानों की क़तारें
उस खंडहर की ओर
जो शायद कभी मा' बदकदा था
उन का
जिन के गम होने से हैं
गुमसुम
सभी गलियाँ और
गुज़रगाहों प' मंडराता हुआ
आसेबी साया
मोड़ पर
रूकती ठिठकती
अजनबी साए से
सहमी
कोई परछाई पलटती
भागते क़दमों की आहट
डूब जाती
आबजू के
ठीक
बीचो बीच