भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सारा आलम गोश बर आवाज़ है / मजाज़ लखनवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सारा आलम गोश बर आवाज़ है|
आज किन हाथों में दिल का साज़ है|

हाँ ज़रा जुर्रत दिखा ऐ जज़्ब-ए-दिल,
हुस्न को पर्दे पे अपने नाज़ है|

कम्नशीं दिल की हक़ीक़त क्या कहूँ,
सोज़ में डुबा हुआ इक साज़ है|

आप की मख़्मूर आँखों की क़सम,
मेरी मैंख़्वारी अभी तक राज़ है|

हँस दिये वो मेरे रोने पर मगर,
उन के हँस देने में भी एक राज़ है|

छुप गये वो साज़-ए-हस्ती छेड़ कर,
अब तो बस आवाज़ ही आवाज़ है|

हुस्न को नाहक़ पशेमाँ कर दिया,
ऐ जुनूँ ये भी कोई अन्दाअज़ है|

सारी महफ़िल जिस पे झूम उठी 'मज़ाज़',
वो तो आवाज़-ए-शिकस्त-ए-साज़ है|