भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सार / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फल की चिंता नहीं की
चखते रहे हमेशा दूसरे
रहा कर्मवत सदा वह तो
मैंने पूछा
कयूँ ?
किसलिए ?
वह चुप रहा और अविचलित भी
उसके मौन में बाँच ली मैंने
पूरी गीता