भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सावचेती / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरसां आखड़ लिया
अबै दूजो पग धरण सूं पैली
आपां आ तो सोचां
कै पगां हेठै जमीन
सिर माथै आभो
अर
आं दोनां बिच्चै खुली हवा
है या नईं ?