भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सावण-भादवा तिरसाया अठै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सावण-भादवा तिरसाया अठै
बोल बेली आपां आया कठै

रात लारै हुयो हरखै हो सूरज
अब कैवै- आछा पजाया अठै

सूखै ताळवो : पितळावै आंख
रुळां पाणी रा भरमाया अठै

आं ई हाथां हुवणो है हलाल
ईद पैली लाड सवाया अठै

जग ऊभो आज मुळकै आंगणै
तरसै आ आंख : मा जाया कठै