भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सावण री बादळियां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सावण सुरंगो
आभै में खिंडियोड़ी
घटाटोप बादळियां काळी
जाणै गोरड़ी कोई
मसळ नाखी हुवै
आंख्यां काजळ आळी ।