भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सावन के बादलो! / रतन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सावन के बादलो! उनसे ये जा कहो'

तक़दीर मं यही था, साजन मेरे न रो।

घनघोर घटाओ! मत झूम के आओ

याद उनकी सताएगी, रूमझुम यहाँ न हो।।

जिस दिन से जुदा हम हैं, आँखें मेरी पुरनम हैं।

रो-रो के मैं मर जाऊँ, दुख तेरी बला को।। सावन के बादलो...

छेड़ो न हमें आके, बरसो कहीं और जाके, बरसो कहीं और जाके।

वो दिन न रहे अपने, रातें न रहीं वो। सावन के बादलो...