भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सावन के सहनइया / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सावन के सहनइया भदोइया के किचकिच हे,
सुगा-सुगइया के पेट, वेदन कोई न जानय हे।

सुगा-सुगइया के पेट, कोइली दुःख जानय हे,
एतना वचन जब सुनलन, सुनहूँ न पयलन हे।

पकी दिहले हथवा कुदारी बबूर तर हे,
डाँड़ मोरा फाटहे करइलो जाके, ओटियो चिल्हकि मारे हे।

राजा का कहूँ दिलवा के बात, धरती अन्हार लागे हे।