भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साव सूनी रात ढळगी एक दिन / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साव सूनी रात ढळगी एक दिन
पीड़ दूणी रात पळगी एक दिन

पग-पग बिछा निज ओळूं रा खीरा
बस चुपचाप रात तळगी एक दिन

आवण री कह आयी कोनी घरां
मुळक-बतळा रात छळगी एक दिन

ठसको-ठसको दिखावै ही गजबण
बाथां भेट रात गळगी एक दिन

मेळै में घड़ी’क आ निजर चूकी
बस इत्तै में रात टळगी एक दिन