भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

साव सूनी रात ढळगी एक दिन / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साव सूनी रात ढळगी एक दिन
पीड़ दूणी रात पळगी एक दिन

पग-पग बिछा निज ओळूं रा खीरा
बस चुपचाप रात तळगी एक दिन

आवण री कह आयी कोनी घरां
मुळक-बतळा रात छळगी एक दिन

ठसको-ठसको दिखावै ही गजबण
बाथां भेट रात गळगी एक दिन

मेळै में घड़ी’क आ निजर चूकी
बस इत्तै में रात टळगी एक दिन