भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साहब मेरे राम हैं / दरिया साहब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साहब मेरे राम हैं, मैं उनकी दासी;
जो बान्या सो बन रह्या, आज्ञा अबिनासी।
अरध उरध षट कँवल बिच, करतार छिपाया;
सतगुरु मिल किरपा करी, कोइ बिरले पाया।
तीन लोक, चौदह भुवन, केवल वह भरपूरा;
हाजिराँसे हाजिर सदा, वह दूराँसे दूरा।
पाप-पुन्य दोउ रूप हैं, उनहींकी माया;
साधनके बरतन सदा, भरमै भरमाया।
जन 'दरिया' इक राम भज, भजबेकी बारा;
जिन यह भार उठाइया, उनके सिर भारा।