भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिंझ्या: एक चितराम / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आभै में पसरै :
कीं ललासी
कीं पीळास
धोरां बैठ्यो म्हैं देखूं
जड़ां सूं जावतो सूरज

मन चितेरो
माण्डै चितराम

चन्नणिया साड़ी बांध
आरती री थाळी लियां ऊभी
मुळकती सुहागण रो !