भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सियार जो हुँहुआता है / थेओ कांदीनास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सियार जो हुँहुआता है
और फन्दे को सूघँता है
हवा जो विलाप करती है
झोपड़ियों के आसपास
सर्दी जो तड़कती है
मुसाफ़िर के जूतों तले
जो खो गया है
वह दिल जो उसाँस भरता है
और डरता है हुँहुआते सियार का
शिकार होने से
सर्दी से जो तड़कती है
जूतों तले

अनुवाद : विष्णु खरे