भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सियासत / रेशमा हिंगोरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसे क्या फलसफा-ए-ज़ीस्त हो समझाने चले,
जिसे क़फसे-मुफ़्लिसी से न आज़ाद किया?

(फलसफा-ए-ज़ीस्त - जिंदगी का फलसफा, गहराईयों पे विचार; क़फसे-मुफ़्लिसी - गरीबी का पिंजरा)
«»«»«»«»«»«»