भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिर्फ़ थोड़ा-सा और / ग्योर्गोस सेफ़ेरिस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिर्फ़ थोड़ा-सा और
फिर हमें दिखेंगे
बादाम-वृक्ष के बौर

सूरज में चमकता संगमरमर
सागर की तरंगित लहरें

सिर्फ़ थोड़ा-सा और
हमें ऊपर उठना है
पाना है ठौर