भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिलसिला / अमिता प्रजापति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे रूठने और
मेरे मनाने का एक निर्बाध सिलसिला

मेरी छोटी-छोटी मनुहारों से
तुम्हारा रूठना
हालाँकि बहुत ऊपर है

पर तुम जानते तो हो
अगर मैं लुटाना चाहूँ तो
केवल मनुहारें मेरे पास हैं

तभी तो
तुम इन्हें स्वीकार लेते हो
मेरी मनुहारों पे
अपना रूठना वार देते हो?