भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सीधा / संतोष अलेक्स

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहाड़ी पर स्थित
पेड़ की टहनी पर खड़े होकर
उसने कहा-

सच्चाई की सीख देनेवाले
रावुण्णी गुरुजी
कठिनाइयों से जूझने का साहस दिलानेवाली
बहन
मिलकर बाँटने को उत्साहित
भाई
दयालु माँ
इस दुनिया में मुझे
सीधे खड़ा रहना है

और
गले में फंदा डालकर
नीचे कूदा वह
फिर सीधा ही खड़ा रहा !