भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सीमाएँ / अशूरा एतवेबी / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तीस सालों में दो क़दम भी
आगे नहीं गया मैं जनता चौराहे से

नहीं हुआ सहभागी बेघर लोगों की विदाई में
तीस सालों से समझ नहीं पाया मैं ईश्वर के आर्त्तनाद को
मैंने भर लीं अपनी हथेलियां हाँफती रातों की बर्फ़ से

पुलिसकर्मी दुर्बल चेहरों की तरफ़ तानते रहे रायफ़लें
लगाते रहे निशाना अँगों की बोरियों पर

यह नहीं थी वह भाषा जो रेल में सवार हो चुकी थी
ये नहीं थे वे सपने जो गाये गए थे लालटेन के गीत में
नहीं, नहीं, ये वे तो नहीं थे

दुपहरी में
परछाइयाँ ढलान से उतरीं और चली गईं
मर्द चले गए
औरतें और बच्चे भी गए

दुपहरी में
मौत आई, फिर दूसरी मौत और फिर...

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र