भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सुंदरियो / नीलेश रघुवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत आया करो तुम सम्मान समारोहों में
तश्तरी, शाल और श्रीफल लेकर
दीप प्रज्वलन के समय
खड़ी मत रहा करो माचिस और दीया-बाती के संग
मंच पर खड़े होकर मत बांचा करो अभिनंदन पत्र
उपस्थिति को अपनी सिर्फ मोहक और दर्शनीय मत बनने
दिया करो
सुंदरियो,
तुम ऐसा करके तो देखो
बदल जाएगी ये दुनिया सारी!