भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुकूँ से मर सकूँ और रूह को आराम आ जाए / ममता किरण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये ख़्वाहिश है कि मरते वक्त लब पर राम आ जाए
सुकूँ से मर सकूँ और रूह को आराम आ जाए

सभी चीज़ें पुरानी घर की यूँ मत फेंक देना तुम
न जाने कौन से पल चीज़ कोई काम आ जाए

गुज़रता जा रहा है वक़्त आपाधापी में यूँ ही
कभी मेरे भी हिस्से इक सुहानी शाम आ जाए

निकलते वक़्त घर से तुम सभी से मिल मिला लेना
न जाने किस धमाके से तेरा पैग़ाम आ जाए

मरूँ चाहे कहीं पर ख़ाक अपने देश में होऊँ
मेरी मिट्टी ही कुछ तो इस वतन के काम आ जाए