भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुखाड़ / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


गरजै बादल,
नैं बरसै बादल।
घटा घनघोर,नाचै छै मोर
हरसै सागर
नैं सरसै गागर
खुशियाली चारो ओर।

भलेॅ आशाढ़-सौन बीतलै
अब होलै अन्हार
होलै भादोॅ के करिया अन्हार।
भादोॅ में बूंदा-बाँदी
आसिन में आशा बाँधी,
‘‘संधि’’ तरसै करि-करि शोर।

नैं एैलेॅ निरमोही पिया
रहि-रहि फाटै सजनी हिया
अन्हरिया-इँजोरिया सब एक्केॅ रं
केकरा बतैबोॅ मनोॅ के बतिया

मिट्ठोॅ-मिट्ठोॅ बाजै ढोल आरो मादल।
गरजै बादल, बरसै बादल।।