भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुख ऒर दु:ख / विनोद पाराशर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हम-
यह जानकर
बहुत सुखी हॆं
कि-दुनिया के ज्यादातर लोग
हमसे भी ज्यादा दु:खी हॆं.
पिता-
इसलिए दु:खी हॆ-
कि बेटा कहना ही नहीं मानता.
बेटे का दु:ख-
कॆसा बाप हॆ?
बेटे के जज्बात ही नहीं जानता.
मां-
इसलिए दु:खी हॆ-
कि जवान बेटी
रात को देर से घर आती हॆ.
बेटी का दु:ख-
शक की सुई-
हमेशा उसी के सामने आकर
क्यों रूक जाती हॆ?
पति-
इसलिए दु:खी हॆ-
कि-उसकी पत्नि
स्वयं को समझदार
ऒर उसे बेवकूफ मानती हॆ
उसकी मां को-
उससे ज्यादा वह जानती हॆ.
पत्नी का दु:ख-
उसका पति-
अभी तक भी-
अपनी कमाई-
अपने मां-बाप पर लुटा रहा हॆ
उसे अपने बच्चों का भविष्य
अंधकारमय नजर आ रहा हॆ.
मालिक -
इसलिए दु:खी हॆ-
कि-नॊकर
हराम की खा रहा हॆ.
नॊकर का दु:ख-
जी-तोड मेहनत के बाद भी
घर नहीं चल पा रहा हॆ.
ये भी दु:खी हॆं
वो भी दु:खी हॆं
ऒर हम-
यह जानकर-बहुत सुखी हॆं
कि-दुनिया के ज्यादातर लोग
हमसे भी ज्यादा दु:खी हॆ.