भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुख / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेडों पर उगती थी टॉफियाँ
फंव्वारे उंडेलते थे आइसक्रीम
जिन्हें मिल बाँट कहते तुम
नहीं ही भूलते थे
मोती काका के कालू को भी

पृथ्वी पर उपलब्ध
सुख सारा पाने की कोशिश में
तुमने खो डाला
साझा सुन्दर सपना
कितना अपना

सच बताना
तुम जानते तो हो ना
सुख क्या है