भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुच्ची वास्कट वालेया / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

यह गीत बेटे की शादी के अवसर पर गाया जाता है।

सुच्ची वास्कट वालेया सोने दे बटन लवा,
शाला तूं जीवें मुरादां वेखी माँ,

अज मेरे राजे दी जंज चड़ी मुरादां नाल,
जीवण जोगे दी जंज चड़ी मुरादां नाल,

इस मेरे सोणे दी माँ खुश पई थीन्दी ए,
जीवण जोगे दी माँ खुश पई थीन्दी ए,

लाल माण के न माण,
सोणेया माण के न माण,

चूड़े वाली वोटी आण,
टिक्के वाली वोटी आण.

चंबा कें राया कें राई चम्बेल,
मरुआ कें राया साडे बुए दे चहुँ चफेर,

सुच्ची वास्कट वालेया सोने दे बटन लवा,
शाला तूं जीवें मुरादां वेखी माँ.