भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुनावे मुजकूँ गर कुई मेहरबानी सूँ सलाम उसका / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुनावे मुजकूँ गर कुई मेहरबानी सूँ सलाम उसका
कहाऊँ आख़िर-दम लग बा जाँ मिन्‍नत ग़ुलाम उसका

अगरचे हस्‍ब ज़ाहिर में है फ़ुर्क़त दरम्‍याँ लेकिन
तसव्वुर दिल में मेरे जल्‍वागर है सुब्‍ह-ओ-शाम उसका

मुहब्‍बत के मिरे दावे पे ता होवे सनद मुझकूँ
लिख्‍या हूँ सफ़्ह-ए-सीने पे ख़ून-ए-दिल सूँ नाम उसका

बरंगे लाला निकले जाम लेकर इस ज़मीं से जम
अगर बख्‍श़े तकल्‍लुम सूँ मै-ए-जाँबख्‍श़ जाम उसका

कुफ़र कूँ तोड़ दिल सूँ दिल में रख कर नीयत-ए-ख़ालिस
हुआ है राम बिन हसरत सूँ जा लछमन सू राम उसका

हुई दी वानगी मजनूँ की यूँ मेरे जुनूँ आगे
कि ज्‍यूँ है हुस्‍न-ए-लैला बेतकल्‍लुफ़-पा-ए-नाम उसका

ज़बाँ तेशे की कर समझे ज़बाँ दूजे फ़सीहाँ की
अगर फ़रहाद दिल जाकर सुने शीरीं कलाम उसका

'वली' देखा जो उस अँखियाँ के साक़ी कन दो जाम-ए-मै
हुआ है बेख़बर आलम सूँ होर ख्‍व़ाहान-ए-जाम उसका