भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुनो! तुम्हें याद है / मधु गजाधर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुनो !
तुम्हें याद है
यहाँ कभी
एक
कच्ची पगडण्डी
हुआ करती थी
दोनों तरफ
खुशहाली के पेड़ों से घिरी
जो अनेक
घुमाव लेकर भी
पहुंचती थी
तुम्हारे दिल तक,
अब वो
पगडण्डी
पत्थरों से बिछी,
कोलतार से रची
एक पक्की
लम्बी सड़क बन गयी है
जो बंद है आगे से
और
कहीं नहीं पहुंचती