भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुन्दरतम / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्यार से
बच निकलता हूँ मैं
तुम्हारे जादुई शिविर में

साँस लेते हुए जँगल में
जहाँ घास के सिरे
ख़ुद झुक जाते हैं

क्योंकि
इससे सुन्दर और कुछ नहीं है।

मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित