भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुबह-सुबह / हुम्बरतो अकाबल / यादवेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात के आख़िरी दौर में
सितारे उतारते हैं
अपने कपड़े
और नंग-धडंग नहाते हैं नदी में।

उल्लुओं की लोलुप निगाहें
उन पर होती हैं
और उनके सिर के ऊपर
उगे हुए नन्हे नन्हे पंख
सितारों को इस दशा में देख कर
उठ खड़े होते हैं।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र