भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सुबह का फ़ोटो / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जामा-मस्जिद के पास एक औरत चीख़ रही है
एक मर्द की गद्दारी पर,
मर्द लाचार-सा मगर साफ़-साफ़ दुराचारी-सा
दिखता चुप है

वह जब-जब कुछ कहता है, चीख़ती है औरत
सुनती है जामा-मस्जिद एक औरत की चीख़
दूर से आती हुई अजान की तरह

अंधेरा मिटाती, किवाड़-सी चरमराती
फिर जामा-मस्जिद से एक अजान आती है
मर्दों की जिद्दी और हठीली आवाज़
जिसे वह सुनती है चीख़ती है अजान के वक़्त
आँसू पीकर तोड़ती है रोजा

जामा-मस्जिद की सीढि़यों पर लेटी है वह
मीनारों से भी ऊँची और गुम्बदों से भी भारी
चीख़ की तरह ।