भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुबह के सगुन / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज दे गया
दरवाजे पर दस्तक
खिड़की से आकर गिरा
आंगन में अखबार

हत्याएं,
आगजनी
बम विस्फोट
अपहरण-बलात्कार

ये तो है
सुबह के सगुन

बीतने को बाकी
पड़ा है अभी तो सामने
पहाड़-सा दिन……
पहाड़-सी रात……